नोरा फतेही से जबरदस्ती संबंध बनाना चाहता था |

नोरा फतेही से जबरदस्ती संबंध बनाना चाहता था |

ठग सुकेश चंद्रशेखर से जुड़े 200 करोड़ रुपए के मनी लॉन्ड्रिंग केस में गुरुवार को एक्ट्रेस नोरा फतेही से दिल्ली पुलिस ने पूछताछ की. दिल्ली पुलिस के सामने नोरा फतेही ने कई खुलासे किए हैं. नोरा ने पूछतछ में पुलिस को बताया कि उसने सुकेश से इसलिए संपर्क तोड़ा था क्योंकि वह जबरदस्ती संबंध बनाने की कोशिश कर रहा था. हालांकि नोरा यह नहीं कह रही कि उसको पता चल गया था कि कुछ गड़बड़ है. बाकी जांच में सामने आएगा.

बता दें कि आज नोरा फतेही और पिंकी ईरानी से पूछताछ हुई. दिल्ली की पुलिस की इकोनॉमिक ऑफेंसेस विंग (EOW) ने 5 घंटे की पूछताछ में कई सवाल किए. दिल्ली स्पेश्ल सेल सीपी क्राइम रविंद्र सिंह यादव ने बताया कि आज नोरा, महबूब और पिंकी ईरानी तीनों को एक साथ बैठाकर पूछताछ की गई. तीनों की स्टेटमेंट के बाद हम संतुष्ट हैं. महबूब को जो 65 लाख की कार गिफ्ट की गई थी उसने आगे बेच दी थी. यह जानकारी ED के संज्ञान में भी है.

नोरा फतेही के जीजा ने महाठग सुकेश से मिली BMW क्यों नहीं लौटाई? एक्ट्रेस से  पूछताछ में मिला जवाब - sensational revelation on nora fatehi conman sukesh  chandrasekhar relationship ...

वहीं उन्होंने बताया कि नोरा ने एक बार गिफ्ट ली और उसे पता लगा कि यह कुछ ज्यादा हो रहा है तो उसने संपर्क तोड़ दिया. दूसरे (जैकलीन के) मामले में गिफ्ट ली गईं. लेकिन वह आगे भी चलता रहा, मना करने के बाद भी चलता रहा. तो दोनों मामलों में फर्क है, आगे जांच में पता लगेगा.

जांच में जैकलीन के मैनेजर प्रशांत ने बताया कि मुझे बिना मांगे यह बाइक दी गई थी, उसका मकसद यह था कि जैकलिन से दोस्ती करवाए. लेकिन प्रशांत ने बताया कि मैंने आगे कदम नहीं बढ़ाया और मैंने इस बाइक को कभी इस्तेमाल नहीं किया. मेरे जरिए वह जैकलिन के पास पहुंचना चाहते था, हमने यह बाइक मांगी थी और हमने रिकवर कर ली है.

नोरा फतेही ने ठग सुकेश चंद्रशेखर से तोहफे लेने के आरोपों से किया इनकार,  कहा- मैं इस केस की विक्टिम थी | TV9 Bharatvarsh

वहीं नोरा का कहना यह है कि मैंने संपर्क इसलिए तोड़ा क्योंकि वह जबरदस्ती संबंध बनाने की कोशिश कर रहा था. नोरा यह नहीं कह रही कि उसको पता चल गया था कि कुछ गड़बड़ है. बाकी जांच में सब सामने आएगा. हमने भी पूछा कि कार क्यों वापस नहीं की तो उन्होंने बताया कि उन्होंने मांगी नहीं और हमने दी नहीं, रिश्तेदार इस्तेमाल कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि एक अधिकारी का मकसद होता है कि सत्य सामने आए और अब तक की जांच अच्छी चल रही है. हमारी इस जांच के आधार पर कोर्ट से भी हमारी जांच को मद्देनजर रखते हुए बड़े-बड़े गुनाहों की सजा मिलनी चाहिए. एक मकसद यह भी है कि अच्छा केस हम कोर्ट के सामने रखें, जिससे आगे भविष्य में कोई लोगों को इतने बड़े पैमाने पर ना ठग सके. अभी जो छानबीन चल रही है, हम उसका विश्लेषण करेंगे और जिसकी जब आवश्यकता होगी हम उसे पूछताछ के लिए बुलाएंगे.

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *